dec-08कुछ स्थापनाएँ जैसे-जैसे करनी वैसी भरनी, लोभ महापाप है, पुण्या सभी सुखो की खान है, पाप कर्म शुभ का उदय नही होने देते, भोगो से त्रप्ति नहीं होती, कामी जो भय और लज्जा नही होती, गुणियों का संसर्ग गुण देता है, शील परम भूषण है,कुछ स्थापनाएँ जैसे-जैसे करनी वैसी भरनी, लोभ महापाप है, पुण्या सभी सुखो की खान है, पाप कर्म शुभ का उदय नही होने देते, भोगो से त्रप्ति नहीं होती, कामी जो भय और लज्जा नही होती, गुणियों का संसर्ग गुण देता है, शील परम भूषण है,
For detail Please read Manthan December-2013 Issue.

Comments

comments